प्रेस-विज्ञप्ति

लोकसभा चुनाव 2019 के परिणामों पर भाकपा(माले) का बयान

नई दिल्‍ली, 23 मई 2019

भाजपा नेतृत्‍व वाले एन.डी.ए. की भारी जीत के साथ मोदी सरकार की फिर से वापसी हुई है. लेकिन जिस तरह से यह जीत हासिल की गई है उसके भारतीय लोकतंत्र के भविष्‍य के लिए चिन्‍ताजनक परिणाम होंगे. 2014 के चुनावों के उलट इस बार मोदी ने विकास के नाम पर तो दिखावे के लिए भी वोट नहीं मांगा. इस बार बिना किसी शर्म के सीधे साम्‍प्रदायिक घृणा अभियान और युद्धोन्‍माद के नाम पर वोट मांगे गये. यहां तक कि आतंकवाद की आ‍रोपित प्रज्ञा सिंह ठाकुर को न सिर्फ प्रत्‍याशी बनाया गया बल्कि भाजपा के चेहरे के रूप में पेश किया गया.

पार्टी पोलित ब्यूरो का बयान

पुलवामा हमले और उसके बाद भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव को आगामी चुनाव में वोटों के लिए भुनाने की भाजपा व मोदी सरकार की कोशिशों की भाकपा-माले की पोलित ब्यूरो आलोचना करती है. पुलवामा हमले और बालाकोट हवाई हमले पर उठने वाले सवालों को लोगों को देशद्रोही कह कर दबाया नहीं जा सकता. यह मोदी सरकार की जबरदस्त विफलता का उदाहरण है. मोदी सरकार बेरोजगारी, खेती-किसानी की तबाही, आर्थिक तबाही, सांप्रदायिक हिंसा और संविधान पर हमले के मामलों में भी अव्वल रही है.

प्रकाशनार्थ -- पोलित ब्यूरो

भाकपा-माले की पोलित ब्यूरो पुलवामा हमले और उसके बाद भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव को आगामी चुनाव में वोटों के लिए भुनाने की भाजपा व मोदी सरकार की कोशिशों की आलोचना करती है। पुलवामा हमले और बालाकोट हवाई हमले पर उठने वाले सवालों को लोगों को देशद्रोही कह कर दबाया नहीं जा सकता। यह मोदी सरकार की जबर्दस्त विफलता का उदाहरण है। साथ ही मोदी सरकार बेरोजगारी, खेती-किसानी की तबाही, आर्थिक तबाही, सांप्रदायिक हिंसा और संविधान पर हमले के मामलों में भी अव्वल रही है।

पुलवामा और नहीं ! भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध और नहीं !

14 फरवरी को पुलवामा में जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले, जिसकी जिम्मेदारी पाकिस्तान आधारित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी, और भारतीय वायुसेना द्वारा कल ( 26 फरवरी) पाकिस्तान के भीतर किये गये जवाबी हमले से भारत और पाकिस्तान के बीच के संबंध लगभग युद्ध के कगार पर पहुंच गए हैं। भारत सरकार के विदेश सचिव ने भारतीय प्रतिक्रिया को आतंकवादी हमले के जवाब में की गई 'प्रि-एम्प्टिव' (बचाव के लिए) कार्यवाही बताया है । दूसरी तरफ पाकिस्तान ने आकस्मिक हमला कर बदले की कार्यवाही करने की घोषणा की है। तमाम संकेतों से जाहिर होता है कि भारत और पाकिस्तान एक बार फिर एक और युद्ध के कग

पुलवामा में हुए हमले की निंदा करें

भाकपा(माले) ने पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों पर हुए हमले की कड़ी निंदा की है. इस नुकसान और शोक की घड़ी में हम हमले के शिकार जवानों के शोकाकुल परिवारों के साथ खड़े हैं और कामना करते हैं कि घायल सिपाही जल्द से जल्द स्वस्थ हो उठें.

इस हमले ने एक बार फिर मोदी सरकार की कश्मीर नीति की चरम विफलता का भंडाफोड़ कर दिया है. कश्मीर के हालात और पाकिस्तान से सम्बन्ध, दोनों मामलों में सुधार के लिये किसी भी गंभीर प्रयास के अभाव में यह अनिवार्य है कि बस सर्जिकल स्ट्राइक का सैन्यवादी गुणगान करना और आक्रामक भावभंगी अपनाना केवल खोखला ही साबित होगा.

- केन्द्रीय कमेटी, भाकपा(माले)

मोदी सरकार पश्चिम बंगाल में साजिशाना हस्‍तक्षेप बंद करे.

नई दिल्‍ली, 4 फरवरी.

लोक सभा चुनाव 2019 से पहले मोदी सरकार ने शारदा घोटाले की सीबीआई जांच के बहाने पश्चिम बंगाल सरकार पर साजिशपूर्ण तरीके से हमला बोल दिया है. इस राज्‍य में भाजपा नेताओं द्वारा राष्‍ट्रपति शासन के लिए मचाया जा रहा हो-हल्‍ला दरअसल संविधान और संघीय ढांचे के खिलाफ पर मोदी सरकार के गलत मंसूबों को उजागर कर रहा है. हम ऐसी किसी भी कोशिश की कड़ी भर्त्‍सना करते हैं और पश्चिम बंगाल की लोकतंत्र पसंद जनता से अपील करते हैं कि सीबीआई का इस्‍तेमाल कर किये जा रहे इस आपराधिक केन्‍द्रीय हस्‍तक्षेप का कड़ा विरोध किया जाय.

बजट 2019 - भ्रामक दावे और जुमलों की बौछारें

नई दिल्‍ली, 1 फरवरी 2019

आज पेश किया गया केन्‍द्रीय बजट लोकसभा चुनाव से पहले आम जनता की आंख में धूल झौंकने के लिए की गई जुमलों की बौछार भर है. आज की तीन बड़ी घोषणायें – 5 एकड़ तक के किसानों को रु. 6000 की आर्थिक सहायता, असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए 3000 प्रति माह की पेंशन और 5 लाख वार्षिक आय वाले करदाताओं को कर से छूट – दिखने में बड़ी भले ही लगें लेकिन इनका कोई खास मतलब नहीं है.

आरक्षण विरोधी उपायों के खिलाफ अखिल भारतीय विरोध का आह्वान

नई दिल्ली, 27 जनुवरी, 2019

शिक्षा और रोजगार में अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण के खिलाफ बहुस्तरीय खतरा मंडरा रहा है।

सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में कॉलेज / विश्वविद्यालय के बजाय विभाग को अनिवार्य करते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले को आधार बनाया है कि SC / ST / OBC उम्मीदवारों के लिए आरक्षित किए जाने वाले शिक्षण पदों की संख्या की गणना के लिए आधार इकाई है। यह प्रणाली (200-बिंदु रोस्टर प्रणाली के बजाय 13-बिंदु रोस्टर प्रणाली के रूप में जानी जाती है) उच्च शिक्षा संस्थानों में संकाय पदों में आरक्षण को कमजोर करने की गारंटी है।

‘‘स्वच्छ भारत अभियान का जुमला और सफाई मजदूरों की दुर्दशा’’

एआईसीसीटीयू (ऐक्टू) एवं ऑल इंडिया म्युनिसिपल वर्कर्स फेडरेशन (एआईएमडब्लूएफ) के आहृन पर राष्ट्रीय कन्वेंशन

16 नवंबर, 2018, जंतर मंतर, नई दिल्ली

भाकपा-माले से संबद्ध खेग्रामस का छठा राष्ट्रीय सम्मेलन, 19-20 नवबंर, जहानाबाद

■ * भाकपा-माले से संबद्ध खेग्रामस का छठा राष्ट्रीय सम्मेलन 19-20 नवबंर को जहानाबाद में*

■ सम्मेलन के अवसर पर 19 नवंबर को जहानाबाद में भाजपा भगाओ-गरीब बचाओ रैली का होगा आयोजन.

■ माले महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य रैली को करेंगे संबोधित

■ 23 राज्यों के 1100 प्रतिनिधि सम्मेलन में हिस्सा लेंगे,ज्यां द्रेज,डीएम दिवाकर आदि अतिथि के बतौर आमंत्रित किये गए हैं!

■ ‘मजदूर-किसानों ने ठाना है, लुटेरी मोदी सरकार को भगाना है’ के केंद्रीय नारे के साथ हो रहा है सम्मेलन.

पटना 16 नवंबर 2018