अभियान

केन्द्रीय कमेटी का सर्कुलर

25 से 27 सितंबर 2019 को राजस्थान के झुंझुनू में केन्द्रीय कमेटी की बैठक हुई. बैठक की शुरूआत 25 सितंबर की सुबह ही गुजरे उत्तर प्रदेश राज्य कमेटी के सदस्य और वयोवृद्ध ट्रेड यूनियन नेता कामरेड हरि सिंह को श्रद्धांजलि देने के साथ हुई. साथ ही भोजपुर के बड़गांव पंचायत के लोकप्रिय मुखिया कामरेड अरुण सिंह को भी श्रद्धांजलि दी गई. कामरेड अरुण की हत्या भाजपा समर्थित सामंती ताकतों ने कर दी थी. महाराष्ट्र में लंबे समय की साथी कामरेड संध्या, पश्चिमी चंपारण के कामरेड भोला उरांव को भी श्रद्धांजलि दी गई.

गांव बैठक अभियान: भोजपुर – समान मजदूरी के लिए जरूरी है महिला खेत मजदूरों का राज्यव्यापी आंदोलन

– कुणाल, राज्य सचिव, भाकपा(माले), बिहार

विगत लोकसभा चुनाव में पार्टी आधार के एक हिस्से का वोट भाजपा की ओर शिफ्ट हो जाने से परेशान व चिंतित साथियों ने राहत की सांस ली जब चुनाव रिजल्ट के तुरत बाद रेपुरा की महिला खेत मजदूरों ने समान मजदूरी की मांग पर भाजपा समर्थक भूस्वामियों-किसानों के खिलाफ हड़ताल की घोषणा कर दी. चुनाव में गरीबों का एक हिस्सा इन्हीं भाजपाइयों के साथ खड़ा हो गया था. यह बेमेल एकता तुरत ही दरकने लगी.

सोनभद्र आदिवासी जनसंहार पर आक्रोश, राज्यव्यापी प्रतिवाद की घोषणा

17 जुलाई को सोनभद्र के घोरावल में दबंगों ने जनसंहार की एक बर्बर को अंजाम देते हुए 3 महिलाओं समेत 10 आदिवासीयों की हत्या कर दी. भाकपा(माले) की उप्र राज्य कमेटी ने घटना पर गहरा आक्रोश जाहिर करते हुए इसके खिलाफ आगामी 22 जुलाई को राज्यव्यापी प्रतिवाद करने की घोषणा की है. पार्टी के राज्य सचिव का. सुधाकर यादव के नेतृत्व में एक आठ सदस्यीय दल सोनभद्र घटनास्थल उभ्भा गांव पहुंचकर मृतकों के परिजनों से मिला.

गिरोहबंद भीड़-हत्या बंद करो! तबरेज को न्याय की गारंटी करो!

मोदी सरकार सत्ता में वापस आ गई है. गिरोहबंद भीड़-हत्यारे भी अपनी कार्रवाइयों में मशगूल हो गये हैं. पहले की ही तरह गिरोहबंद भीड़-हत्याओं की वीडियोग्राफी की जा रही है ताकि और अधिक लोगों को इस किस्म की वारदात करने के लिये प्रोत्साहित किया जा सके और संभावित शिकारों को और भी साफ तौर पर पता चल जाय कि आगे उनका अंजाम क्या होना है.

पुदुच्चेरी की राज्यपाल किरण बेदी को बर्खास्त करो

एक तरफ चेन्नै भयानक जल संकट से जूझ रहा है, वहीं दूसरी ओर पुदुच्चेरी की राज्यपाल किरण बेदी तमिलनाडु और चेन्नै की जनता की तकलीफों का मजाक उड़ा रही हैं. उन्होंने हिंदी में ट्वीट करके कहा कि चार वर्ष पूर्व भयावह बाढ़ का प्रकोप झेलने वाला चेन्नै “कमजोर प्रशासन, भ्रष्ट राजनीति, उदासीन नौकरशाही तथा स्वार्थी व कायराना/कमजोर जनता की वजह से आज देश का पहला सूखा शहर बन गया है.”

राजकुमार यादव - जिनके खिलाफ भाजपा ने अपने वर्तमान सांसद को नहीं, एक दलबदलू को खड़ा किया

झारखंड के कोडरमा लोकसभा क्षेत्र से भाकपा(माले) के उम्मीदवार कामरेड राजकुमार यादव वर्तमान में धनवार विधान सभा क्षेत्र से निर्वाचित विधायक और एक लोकप्रिय जन नेता हैं. और 1995 में तत्कालीन बिहार राज्य के धनवार विधानसभा क्षेत्र में भाकपा(माले) के उम्मीदवार के बतौर चुनाव लड़ने के बाद से हर चुनाव में - चाहे लोकसभा का हो या विधानसभा का - उनके वोट लगातार भारी तादाद में बढ़ते रहे हैं.

जन राजनीतिक परंपरा के सच्चे वारिस हैं राजू यादव

भोजपुर जनवादी संघर्षों की जमीन है. राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक गैरबराबरी के खिलाफ जनसंघर्षों का यहां का इतिहास बेमिसाल रहा है. संघर्ष के विविध रूप यहां की परिवर्तनकामी जनता की चेतना के अनिवार्य हिस्सा रहे हैं. आजादी के बाद नक्सलबाड़ी विद्रोह और नवनिर्मित वामपंथी पार्टी भाकपा(माले) के कामरेडों के भीषण शासकीय दमन के बाद भोजपुर की जमीन पर उस इंकलाबी स्वप्न को पुनर्जीवन मिला. यहां भी जगदीश मास्टर, रामेश्वर यादव, भाकपा(माले) के दूसरे महासचिव कामरेड सुब्रत दत्त उर्फ जौहर, डा. निर्मल, बूटन मुसहर समेत कई कामरेडों ने संघर्ष के दौरान शहादत दी.

भाकपा(माले) के उत्तर प्रदेश से लोकसभा प्रत्याशी

कामरेड ईश्वरी प्रसाद कुशवाहा

i p kउत्तर प्रदेश में गाजीपुर लोकसभा क्षेत्र से भाकपा(माले) के उम्मीदवार कामरेड ईश्वरी प्रसाद कुशवाहा का जन्म 18 सितंबर 1958 को जमानिया तहसील थाना क्षेत्र के लहुआर गांव के गरीब किसान परिवार में हुआ था. वे छात्रा जीवन से ही कम्युनिस्ट आंदोलन में काम कर रहे हैं.

लोकसभा चुनाव 2019: कोडरमा

लाल लहर परवान चढ़ रही है

झारखंड में भाजपा ने बड़े पैमाने पर राजद नेताओं को अपने में मिला लिया है. कई दिनों तक अज्ञातवास में रहने के बाद विगत 24 मार्च को कोडरमा के पूर्व विधायिका अन्नपूर्णा देवी समेत कुछ और राजद नेता भी भाजपा में शामिल हो गए. फिर, यह सिलसिला यही तक आकर खत्म नहीं हुआ. झारखंड में राजद के सबसे बड़े नेता गिरिनाथ सिंह भी पिछले दिनों भाजपा में शामिल हो गए. अन्नपूर्णा देबी को कोडरमा और गिरिनाथ सिंह को चतरा लोकसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी बनाने की अटकलें भी लगायी जा रही हैं.

लोकसभा चुनाव 2019: आरा

झूठ और सच के बीच लड़ाई है यह चुनाव

दलित और लोकतांत्रिक आंदोलनों के चर्चित नेता और गुजरात से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्रा संघ के अध्यक्ष एन साई बालाजी ने विगत 1 अप्रैल को आरा में आरा संसदीय क्षेत्र से भाकपा(माले) और महागठबंधन समर्थित प्रत्याशी राजू यादव के समर्थन में चुनावी दौरा किया.